यूपी स्कॉलरशिप 2023: फॉर्म वेरीफाई नहीं हुआ? तो जल्दी करें अब ये काम पूरा

UP Scholarship 2023: यदि आपका यूपी स्कॉलरशिप 2022-23 (UP SCHOLARSHIP 2022-23) का आवेदन फॉर्म अभी तक वेरीफाई नहीं हुआ है, तो यह एक चिंता का विषय हो सकता है। उत्तर प्रदेश समाज कल्याण विभाग ने यूपी के छात्रों के लिए एक नया पोर्टल खोलने की घोषणा की थी, जिससे यह एक बड़ा तोहफा माना गया था। हालांकि, इसके बावजूद, लाखों छात्रों के स्कॉलरशिप आवेदन अभी तक इंस्टीट्यूट और विश्वविद्यालयों द्वारा समाज कल्याण विभाग को फॉरवर्ड नहीं किए गए हैं। इसके कारण, छात्रों के आवेदन फॉर्म का वेरीफाई भी समाज कल्याण विभाग द्वारा अभी तक नहीं किया गया है। इस विषय में नवीनतम अपडेट्स जानने के लिए आइए हम जानते हैं क्या है ताजा अपडेट।

यूपी स्कॉलरशिप 2022-23: आवेदन फॉर्म फॉरवर्ड अभी नहीं किए गए

यदि आपने यूपी स्कॉलरशिप 2022-23 (UP SCHOLARSHIP 2022-23) के लिए आवेदन किया है और आपका आवेदन अभी तक फॉरवर्ड नहीं किया गया है, तो इस बात का चिंता करने की आवश्यकता है। सामाजिक कल्याण विभाग ने घोषणा की थी कि 15 अप्रैल से यूपी स्कॉलरशिप पोर्टल फिर से खोला जाएगा और शेष छात्रों के स्कॉलरशिप आवेदन फॉरवर्ड किए जा सकेंगे। हालांकि, अभी तक स्कॉलरशिप आवेदन फॉरवर्ड नहीं किया गया है। यदि आपका यूपी स्कॉलरशिप फॉर्म अभी भी फॉरवर्ड नहीं हुआ है, तो अपने संस्थान और विश्वविद्यालय में जाएं और अपने फॉर्म को फॉरवर्ड न होने की वजह पता करें और उसे फॉरवर्ड करवाएं।

आवेदन फॉर्म फॉरवर्ड इस तिथि तक पहुंचेंगे

यूपी स्कॉलरशिप 2022-23 (UP SCHOLARSHIP 2022-23) के लिए आवेदन फॉर्म फॉरवर्ड करने के लिए समाज कल्याण विभाग, उत्तर प्रदेश द्वारा उन सभी संस्थानों के लिए पोर्टल एक बार फिर खोल दिया गया है, जिन्होंने किन्हीं कारणों से विद्यार्थी का आवेदन फॉर्वर्ड नहीं किया था। यह जानकर बताया जाता है कि यूपी स्कॉलरशिप 2022-23 (UP SCHOLARSHIP 2022-23) के लिए पोर्टल फिर से 15 अप्रैल से खोला गया है, जहां से विद्यार्थियों के आवेदन फॉर्वर्ड होना शुरू होना था। यह बताया गया है कि स्कॉलरशिप 2022-23 (UP SCHOLARSHIP 2022-23) के लिए आवेदन की खिड़की 15 जून तक खुली रहेगी।

यूपी स्कॉलरशिप: जनरल और ओबीसी वर्ग के छात्रों को लाभ नहीं

उत्तर प्रदेश में स्कॉलरशिप (Scholarship) के लिए, हालांकि केंद्र सरकार के आदेश पर यूपी स्कॉलरशिप पोर्टल एक बार फिर से खोल दिया गया है, लेकिन इसका लाभ सीमित वर्ग के विद्यार्थियों को ही मिलेगा। समाज कल्याण विभाग के राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) असीम अरुण के बयान के अनुसार, इसका लाभ केवल अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) वर्ग के छात्रों को ही प्राप्त होगा, पूर्वाग्रहीत कि वे पहले ही आवेदन करें और उनका आवेदन फॉर्वर्ड किसी कारण से इंस्टीट्यूट या विश्वविद्यालय द्वारा समाज कल्याण विभाग को फॉरवर्ड नहीं किया जा सका हो।

Leave a comment